घर के बाहर की गंदगी या सूक्ष्म जीवाणु को घर से बाहर रखें इससे घर मे बीमारी नहीं आती हैं
ऑफिस जायें या फिर अधिकतर समय घर पर बितायें, इधर उधर ज्यादा न घूमें|
घर पर पूजा पाठ करें और थोड़ा समय बच्चों के साथ बितायें| क्योंकि भारत श्रद्धा और भक्ति का देश हैं|
कही पर भी आने-जाने के लिए अपने ही वाहन का उपयोग करें, किसी दूसरे को अपना वाहन न दें|
यदि आप पब्लिक वाहन का उपयोग कर रहे हैं तो अपने मुँह और नाक को रुमाल या दुपट्टा या मास्क से जरूर ढक लें|
कहीं भी किसी भी चीज़ को छूने के बाद अपने मुँह, नाक, आँख व चेहरा बिलकुल भी न छूएं|
कोशिश करें कि सभी लोगों से एक मीटर की दूरी पर रहें|
आपका मोबाइल फ़ोन किसी को भी न दें और मोबाइल को अल्कोहल या स्प्रिट के साथ साफ़ करते रहें|
आपके जूते चप्पल घर से बाहर ही रखें| घर व बाहर के जूते चप्पल अलग-अलग होने चाहिए|
हाथों को स्प्रिट या सैनीटिज़ेर से साफ़ करके ही घर की चीजों को छूएँ|
घर वापस आने पर अपने मुँह, हाथ और पैर को साबुन व पानी के साथ अच्छे से धुलें और कपड़े बदल कर ही सोफ़ा या बिस्तर या रसोई में जायें|
 

 

किसी को घर पर न हीं बुलाएँ और न हीं किसी के घर पर जाएँ|
शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल, सुपर मार्केट या बहुत भीड़ वाली जगह पर न जाएँ कुछ भी खरीदने के लिए पास की दुकान से खरीदें|
बाहर का बना या पका हुआ खाना न खाएं|
६० वर्ष या अधिक आयु के लोगो को फ्लू और निमोनिया का वैक्सीन लगवायें और घर से कम से कम बाहर निकले|
अगर आप बीमार है तो घर पर आराम करे और दवा लें|
अगर आपको सर्दी ख़ासी बुख़ार और इसके साथ में साँस फूलना दस्त लगना महसूस हो रहा है तो बिना देर किये डॉक्टर को तुरंत दिखाएँ|
घर मे सब्जी व फलों को खाने वाले सोडा और सिरका के पानी के साथ धुलकर खाना व पकाना  चाहिये|
सील बंद खाने के पैकेट को धुलकर ही प्रयोग में लाना चाहिए|
रुपयों पैसों का लेन-देन कम से कम करें, डिजिटल रुपयों पैसों का लेन-देन करना ज्यादा सुरक्षित हैं|
घर का वातावरण शुद्ध करने के लिए गंधक-लोवान की धूनी देनी|
अगर सभी लोग अपने अपनों का ध्यान रखे और ऊपर के लिखे नियमो का पालन करें तो भारत देश में कुछ भी बीमारी नहीं फैलेगी
इन सब नियमो को मानने से घर के बाहर की गंदगी या सूक्ष्म जीवाणु घर से बाहर रहते हैं|